खेल पुराने

15-07-2019

दादाजी , पिंकू से बोले
बीतीं यादें ताजा करके।
खेल पुराने कोई ना खेले
अब लड़की हो या लड़के॥

 

मन में जितना आए खेलो
कम्प्यूटर में गेम।
चाहे पुराने गेम ना खेलो
पर जानो उनके नेम॥

 

छुप्पा-छुप्पी,छिया-छलाई
छर्रा, लंगड़ी, नदी-पहाड़।
गिल्ली-डंडा, अंडा-गिपड़ी
बाहर खेलें मिलके यार॥

 

नो - गोटी, सोलह - गोटी
अट्टी, चौपड़ खेलें भीतर।
कोना-कोना खेलें कभी
कभी खेलें दस्तर-पिंजर॥

 

अगर खेलना चाहो इनको
अपने मित्रों को ले आना।
खेल, खेलने से ही सीखोगे
ऐसे मुश्किल है समझाना॥

0 Comments

Leave a Comment

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता - हाइकु
किशोर साहित्य लघुकथा
लघुकथा
कविता
बाल साहित्य कविता
हास्य-व्यंग्य कविता
नवगीत
विडियो
ऑडियो