हृदय हमारा वृन्दावन है

15-05-2019

हृदय हमारा वृन्दावन है

नरेंद्र श्रीवास्तव

तन राधा, मन मोहन है।
हृदय हमारा वृन्दावन है॥

 

दीवानापन, पागलपन भी।
बेसुध, मदहोशी, तड़पन है॥

 

यमुना  की रसधार  चेतना।
दृग द्वय प्रेममयी चितवन है॥

 

रोम - रोम में  लीलाएँ  हैं।
हर धड़कन मधुर मिलन है॥

 

महके साँसों में नंदनवन।
और देवालय अंतर्मन है॥

0 Comments

Leave a Comment

लेखक की अन्य कृतियाँ

बाल साहित्य कविता
कविता
बाल साहित्य आलेख
किशोर साहित्य कविता
अपनी बात
कविता - हाइकु
किशोर साहित्य लघुकथा
लघुकथा
हास्य-व्यंग्य कविता
नवगीत
विडियो
ऑडियो