धड़कन-धड़कन साँसें महकें

15-03-2020

धड़कन-धड़कन साँसें महकें

नरेंद्र श्रीवास्तव

जब-जब मेरे पास रहा तू, वो हसीन पल जीवन मेरे।
जब-जब मुझसे दूर रहा तू, वो बोझिल पल जीवन मेरे॥


कभी दूर तो कभी पास रह,
जीवन ज्यूँ धूप और छाया।
कभी खिला-सा पुष्प रहा मैं,
कभी रहा मुरझा-मुरझाया॥
तनहाई में तपा-जला मैं, वो अगन पल जीवन मेरे।


कभी जिया तो कभी मरा-सा,
जीवन ने हर रूप दिखाया।
कभी बहारें सावन जैसी,
पतझड़-सा मौसम भी पाया॥
कभी पूस-सी ठंडी ठिठुरन, कभी वसंत पल जीवन मेरे।


बहुत हुआ दो तरहा जीवन,
अब बाहों में झूमें गायें।
ऐसे मिलें, बिछड़ें न कभी,
जीवनभर की चाहत पायें॥
धड़कन-धड़कन साँसें महकें, हों सुगंध पल जीवन मेरे।

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

किशोर साहित्य कविता
कविता - हाइकु
बाल साहित्य कविता
कविता
किशोर साहित्य आलेख
बाल साहित्य आलेख
अपनी बात
किशोर साहित्य लघुकथा
लघुकथा
हास्य-व्यंग्य कविता
गीत-नवगीत
विडियो
ऑडियो

विशेषांक में