चूहा फुदकता इधर-उधर।
झट भागे  जब पड़े नज़र॥

 

दुबका बैठा रहता बिल में।
बने शेर, देर रात पहर॥

 

चीज क़ीमती या काम की।
काटे-कुतरे नहीं फ़िकर॥

 

भीगी-बिल्ली सा बन जाये।
जब कोई ले उसे पकड़॥

 

छोटा पेट भले ही उसका।
खाने में नहीं करे कसर॥

 

गणेशजी का वाहन बना।
जाए से ना जाए अकड़॥

 

बिल्ली से डरता है बहुत।
ख़तरा लगता डगर-डगर॥

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता - हाइकु
किशोर साहित्य कविता
बाल साहित्य कविता
कविता
किशोर साहित्य आलेख
बाल साहित्य आलेख
अपनी बात
किशोर साहित्य लघुकथा
लघुकथा
हास्य-व्यंग्य कविता
नवगीत
विडियो
ऑडियो