चंदा तुम प्यारे लगते

01-04-2020

चंदा तुम प्यारे लगते

नरेंद्र श्रीवास्तव

चंदा-सूरज भाई-भाई।
सूरज आग, चंदा ठंडाई॥


चंदा चाँदी सा है चमके।
छुप जाये तो तम आ धमके॥


चंदा के संग ढेर सितारे।
सभी दोस्त हैं प्यारे-प्यारे॥


चंदा धीरे-धीरे चलता।
रुके नहीं, और न ही थकता॥


चंदा का नीला आसमान।
ख़ूब खेलने का मैदान॥


चंदा तुम हो प्यारे लगते।
कभी तो आ हमसे मिलते॥

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

किशोर साहित्य कविता
कविता - हाइकु
बाल साहित्य कविता
कविता
किशोर साहित्य आलेख
बाल साहित्य आलेख
अपनी बात
किशोर साहित्य लघुकथा
लघुकथा
हास्य-व्यंग्य कविता
गीत-नवगीत
विडियो
ऑडियो