अमृतमय अभिसार बने

15-05-2019

अमृतमय अभिसार बने

नरेंद्र श्रीवास्तव

इश्क़ मेरा इज़हार बने।

इश्क़ तेरा इक़रार बने॥

 

दर्पण से क्या लेना देना?

ये शोख़ अदा शृंगार बने॥

 

महक उठे तेरे आने से।

हर ज़र्रा गुलज़ार बने॥

 

तेरे गेसूओं के साये में।

हर लम्हा दिलदार बने॥

 

आज सुनें बातें दिल की।

अमृतमय अभिसार बने॥

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

किशोर साहित्य कविता
कविता - हाइकु
बाल साहित्य कविता
कविता
किशोर साहित्य आलेख
बाल साहित्य आलेख
अपनी बात
किशोर साहित्य लघुकथा
लघुकथा
हास्य-व्यंग्य कविता
गीत-नवगीत
विडियो
ऑडियो

विशेषांक में