ऐसा हो ...

01-12-2019

दिल में एक अरमान लिये हों।
आन,बान व शान लिये हों॥

मुश्किल का हल मिल के खोजें।

होंठो पर मुस्कान लिये हों॥

धोखा,ठगी,छल,कपट,छुये न।
पल-पल,पग ईमान लिये हों॥

नफरत से मतलब ना कोई।
प्यार और सम्मान लिये हों॥

सभी धर्म,भाषा का आदर।
पूरा हिन्दुस्तान लिये हों॥

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

किशोर साहित्य कविता
कविता - हाइकु
बाल साहित्य कविता
कविता
किशोर साहित्य आलेख
बाल साहित्य आलेख
अपनी बात
किशोर साहित्य लघुकथा
लघुकथा
हास्य-व्यंग्य कविता
गीत-नवगीत
विडियो
ऑडियो

विशेषांक में