मुट्ठी भर धूप

15-01-2021

मुट्ठी भर धूप

डॉ. शोभा श्रीवास्तव

दोपहर ढल भी न पाई थी 
और बदली साँझ लेकर आ गयी
मुट्ठी भर धूप का तेवर भी
कुछ कम नहीं 
उजाले छुपने लगे
कालिमा के आवरण में 
और गुलाबी साँझ 
सकुचाई सी 
निकल गई चुपचाप 
अँधेरे से अपना दामन छुड़ाकर
 
पर 
रात ने धीरे से थाम लिया अँधेरे को 
गोया कि
उसे सहलाते हुए कह रही हो 
"तुम किसी से कुछ कम हो क्या"
तुम हो 
तभी तो तलाश है रोशनी की 
तुम्हारे बिना 
उजाला
कैसे परिभाषित कर पाता 
ख़ुद को 
 
छोड़ो 
गर ढल गई धूप
वह देखो जलता हुआ दीया
जो तुम्हें ही निहार रहा है 
 
और सचमुच 
अँधेरा डूब गया 
जलते हुए दीये की 
मुट्ठी भर रोशनी में।

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता
सामाजिक आलेख
रचना समीक्षा
साहित्यिक आलेख
कविता-मुक्तक
बाल साहित्य कविता
ग़ज़ल
विडियो
ऑडियो

विशेषांक में