जीवन में बसंत

02-02-2015

जीवन में बसंत

डॉ. शोभा श्रीवास्तव

ऋतु बसंती गुनगुनाने की ख़ता करना नहीं,
आजकल सहमा हुआ, सिहरा हुआ वातावरण है।

 

रंग स्वागत के दिखेंगे हर तरफ तुमको मगर,
भावनाओं पर चढ़ा इक झीना-झीना आवरण है।

 

मुस्कुराती सूरतें अब एक मायाजाल सी हैं,
हास्य का पूरे हृदय से अब नहीं होता वरण है।

 

सपनों, उम्मीदों को ढोता जा रहा है आदमी,
आज के इस दौर का जाने ये कैसा आचरण है।

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

गीत-नवगीत
कविता
सामाजिक आलेख
रचना समीक्षा
साहित्यिक आलेख
कविता-मुक्तक
बाल साहित्य कविता
ग़ज़ल
विडियो
ऑडियो

विशेषांक में