उम्र का यह कैसा पड़ाव है,
अन्तर्मन की उठती लहरों में,
अजीब सा ठहराव है!
 
छल रहा है वक़्त भी मुझको,
वक़्त है या कोई दगाबाज़ है!
उम्र लगी है चेहरे पर झलकने,
दिल में उमड़ते अब भी जज़्बात हैं!
 
उम्र तो है इक उड़ता पंछी,
ना जाने कहाँ तक इसकी परवाज़ है,
उम्र का यह कैसा पड़ाव है!

2 टिप्पणियाँ

  • 28 Jul, 2021 11:05 PM

    बुढ़ापा शरीर का सच है । मन तो निर्विकार ही रहता है । बहुत सुंदर शब्दावली । बधाई

  • बहुत खूब

कृपया टिप्पणी दें