तुम और अपना गाँव 

15-05-2021

तुम और अपना गाँव 

सुषमा दीक्षित शुक्ला 

कमला चाची दरवाजे पर टकटकी लगाए आज सुबह से अपने परदेसी बेटे जीवन की अनवरत प्रतीक्षा कर रही थीं, होली का दिन जो आ गया था। मगर बेरोज़गारी व ग़रीबी के दंश से उबरने के लिए अपनी प्यारी विधवा माँ को बेसहारा छोड़ कमाई करने के लिए परदेस गया था उनका इकलौता बेटा जीवन।

बेरोज़गारी के डंक ने जीवन को काम की तलाश में अपने प्यारे गाँव शांतिपुर के सुकून से दूर चकाचौंध भरे शहर की ओर जाने को मजबूर कर दिया था।

होली का दिन आ गया था मगर अभी तक जीवन वापस अपने गाँव नहीं आ सका था, जिसकी अनवरत प्रतीक्षा में एक-एक क्षण बुढ़ापे की ओर तेज़ी से बढ़ रही बेचारी विधवा माँ ने तिनका-तिनका जोड़ कर होली पर बेटे के आगमन की संभावना से सोंठ गुड़ की गुझिया व उसके पसंद के होले भून कर रखे थे। कमला चाची ने ख़ुशी के मारे उस दिन भोजन भी नहीं किया कि प्यारे बेटे को अपने हाथ से खिला कर ही खाऊँगी।

मगर यह क्या . . . होली धू-धू कर जल चुकी थी . . . इंतज़ार में सुबह हो गई। गाँव के गलियारों में बच्चे रंग खेल रहे थे, लोग-लुगाई हुड़दंग कर रहे थे। गाँव की गोरियाँ टोलियाँ बनाकर होली गीत गा रहीं थीं। मगर इस बेचारी माँ का दिल सूनेपन से घिरा था . . .

उनकी आँखों का तारा उनका इकलौता लाल जो अब तक घर नहीं पहुँचा था।

कमला चाची को कुछ घबराहट सी हो रही थी, कई प्रकार की अशुभ कल्पनाएँ उनकी रूह कंपा सी रहीं थीं कि बेटा किसी मुसीबत में तो नहीं है, कहीं माँ को भूल तो नहीं गया परदेस में किसी से ब्याह रचा कर या शहर की चकाचौंध देखकर . . .। ये सब सोचकर उनके मन में घबराहट अनायास ही होने लगती; वह ईश्वर को पुकार रही थी।

अचानक पीछे से किसी ने कमला चाची के आँखों पर रंग लगे अपने हाथ ढक लिए।

माँ अपने बच्चे का स्पर्श हर हाल में पहचानती ही है चाहे वह अपनी याददाश्त भी क्यों ना खो चुकी हो . . . फिर देखा सामने उसका जीवन वापस आ गया था। वह अपने हाथों में घर के कई सामान, माँ के लिए साड़ी, खाना पकाने के लिए कुकर आदि लेकर अपने गाँव वापस लौटा था। अपनी प्यारी माँ के पास . . . अपने गाँव के उसी बरगद की छाँव में जहाँ वह पल कर बड़ा हुआ था।

शहर की घनी आबादी से दूर सुकून का जीवन जीने फिर से वापस आ गया था जीवन . . . और माँ से बोला, "अब माँ अपने गाँव में ही रोजगार कर लूँगा, तुम्हारे पास रहकर, तुम और अपना गाँव बहुत प्यारे लगते हैं मुझे!"

1 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता
लघुकथा
स्मृति लेख
हास्य-व्यंग्य कविता
दोहे
कविता-मुक्तक
गीत-नवगीत
विडियो
ऑडियो

विशेषांक में