मैं अपने घोड़े पर सवार,
हिमतुंगों का सर झुकाना चाहता हूँ,
भूल गया हूँ कि
इन चोटियों पर विजय पाने के लिए
पैदल चलना पड़ता है
क़दम ब क़दम


भूल गया हूँ कि
पथरीले रास्तों पर पदचिह्न नहीं होते
हर एक को खोजना होता है अपना मार्ग
नुकीले पत्थरों पर चढ़ाना होता है
अपने छिले तलवों का अर्घ्य

0 Comments

Leave a Comment

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता
किशोर साहित्य कविता
सम्पादकीय
पुस्तक समीक्षा
कहानी
विडियो
ऑडियो