वो मौसम

31-10-2014

मैंने बातों बातों में
फोन पे ही पूछा –
 
इतने दिनों बाद आ रहा हूँ
बोलो,
तुम्हारे लिए क्या लाऊँ
 
उसने कहा-
वो मौसम
जो हमारा हो
हमारे लिए हो
और हमारे साथ हो,
हमेशा।

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

शोध निबन्ध
साहित्यिक आलेख
सामाजिक आलेख
कविता
कविता - क्षणिका
कहानी
विडियो
ऑडियो