त्रिशंकु

30-08-2007

त्रिशंकु

सुमन कुमार घई

भूत भूलता नहीं है
वर्तमान पहचानता नहीं है
भविष्य जानता नहीं है
इस त्रिशंकु में रहूँगा तो कब तक

 

एक पाँव वहाँ की
स्मृतियों में अटका है
दूसरा यहाँ की
वास्तविकता में
दो नावों में धरे हैं पाँव
निश्चित है डूबना
तो फिर...
जल में पदचिह्न छोड़ोगे तो कैसे ...!!

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कहानी
कविता
किशोर साहित्य कविता
सम्पादकीय
पुस्तक समीक्षा
विडियो
ऑडियो