पुत्र की जिज्ञासा

15-03-2020

पुत्र की जिज्ञासा

नरेंद्र श्रीवास्तव

पिता-पुत्र बैठे बैंच पर
थे सोच रहे क्या जाने?
तभी पुत्र ने प्रश्न किया 
सुन, पिता लगे मुस्काने॥


पूछ रहा था पुत्र प्रश्न ये
पापा, ये मुझे समझाओ।
बात जान लेते मन की 
जो जादू है सिखलाओ॥


कुछ नहीं है जादू इसमें
पिता ने हँस समझाया।
मैं बेटा, तेरे दादा का 
ये अनुभव से है आया॥

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

किशोर साहित्य कविता
कविता - हाइकु
बाल साहित्य कविता
कविता
किशोर साहित्य आलेख
बाल साहित्य आलेख
अपनी बात
किशोर साहित्य लघुकथा
लघुकथा
हास्य-व्यंग्य कविता
गीत-नवगीत
विडियो
ऑडियो

विशेषांक में