जीवन के तीस बसंत के बाद

15-03-2015

जीवन के तीस बसंत के बाद

डॉ. मनीष कुमार मिश्रा

जीवन के तीस बसंत के बाद
जब पीछे मुड़कर देखता हूँ तो
कई मुस्कुराते चेहरों को पाता हूँ
लगभग हर आँख में
अपने लिए प्यार पाता हूँ
अपने लिए इंतज़ार पाता हूँ
कुछ अधूरे सपनों की कसक पाता हूँ
संतोष और अपार सुख पाता हूँ

 

फिर जब आगे देखता हूँ तो
कईयों की उम्मीद देखता हूँ
कई-कई अरमान देखता हूँ
वादों का भारी बोझ देखता हूँ
किसी को ख़ुश, किसी को नाराज़ देखता हूँ

 

फिर जहाँ खड़ा हूँ
वहाँ से आज तीस बसंत बाद
जब ख़ुद को आँकता हूँ तो
उस परम सत्ता की कृपा के आगे
नत मस्तक होते हुए
इस जीवन के लिए धन्यवाद देता हूँ

 

और प्रणाम करता हूँ उन सभी को जिन्होंने
मुझे अपने प्रेम और घृणा
विश्वास और अविश्वास
आशीष और श्राप
इत्यादि के साथ
अपने जीवन का महत्वपूर्ण हिस्सा बनाया

और

 

आज जीवन के इस पड़ाव पर
मेरे लिए अपार सुख और संतोष के नियामक बने
आभारी हूँ मैं सभी का
आभारी हूँ उसका भी जो
मेरे अंदर मेरी बनकर रहती है
मेरे अंदर शक्ति का संचार करती है
वो जिसकी गर्मी प्राणवायु सी लगती है
वो जिसके लिए,
दुनिया को सुंदर बनाने का मन करता है
जिसके लिए सब कुछ सहने का मन करता है
वो जो सुंदर है
वही मेरा सत्य है
ये वही है जो
सब कुछ अच्छा बना देती है
सब को मेरा बना देती है
सब को माफ़ कर देती है
सब के बीच मुझे बाँट देती है
आज इतने लोगों में बँट गया हूँ कि
उसी से दूर हो गया हूँ
जिसकी ऊष्मा से
दुनिया बदलने की ताकत रखता हूँ।

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

शोध निबन्ध
साहित्यिक आलेख
सामाजिक आलेख
कविता
कविता - क्षणिका
कहानी
विडियो
ऑडियो