डिब्बे-डिब्बे जुड़ी है रेल

01-12-2019

डिब्बे-डिब्बे जुड़ी है रेल

नरेंद्र श्रीवास्तव

लंबी-लंबी बड़ी है रेल।
डिब्बे-डिब्बे जुड़ी है रेल॥


कुछ उतरे, कुछ बैठ रहे हैं।
स्टेशन पर खड़ी है रेल॥


सिग्नल हरा न होगा जब तक।
खड़ी रहेगी, अड़ी है रेल॥


मोड़ पड़े खिड़की से देखो।
माला की ज्यूँ लड़ी है रेल॥


खींचले ज़ंजीर कोई तब।
रुकती फ़ौरन डरी है रेल॥


सीख लिखी डिब्बे-डिब्बे में।
लगता लिखी-पढ़ी है रेल॥


कोई मिले तो, कोई बिछड़े।
दिल की दिल से कड़ी है रेल॥

0 Comments

Leave a Comment

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता
बाल साहित्य कविता
बाल साहित्य आलेख
किशोर साहित्य कविता
अपनी बात
कविता - हाइकु
किशोर साहित्य लघुकथा
लघुकथा
हास्य-व्यंग्य कविता
नवगीत
विडियो
ऑडियो