बनारस 03 - यह जो बनारस है

03-12-2015

बनारस 03 - यह जो बनारस है

डॉ. मनीष कुमार मिश्रा

यह जो बनारस है
धर्म कर्म और मर्म की धरा है
ज़िंदा ही नहीं
मुर्दों का भी ज़िणदादिल शहर है
धारा के विपरीत
यही यहाँ की रीत है।

यह जो बनारस है
कबीर को मानता है
तुलसी संग झूमता है
अड्बंगी बाबा का धाम
यह सब को अपनाता है।

यह जो बनारस है
खण्ड खण्ड पाखंड यहाँ
गंजेड़ी भंगेड़ी मदमस्त यहाँ
अनिश्चितताओं को सौंप ज़िन्दगी
बाबा जी निश्चिंत यहाँ।

यह जो बनारस है
रामलीला की नगरी
घाटों और गंगा की नगरी
मालवीय जी के प्रताप से
सर्व विद्या की राजधानी भी है।

यह जो बनारस है
अपनी साड़ियों के लिए मशहूर है
हाँ इन दिनों बुनकर बेहाल है
मगर सपनों में उम्मीद बाकी है
यह शहर उम्मीद के सपनों का शहर है।

यह जो बनारस है
बडबोला इसका मिज़ाज है
पान यहाँ का रिवाज़ है
ठंडी के दिनों की मलईया का
गज़ब का स्वाद है ।

यह जो बनारस है
माँ अन्नपूर्णा यहाँ
संकट मोचन यहाँ
कोई क्या बिगाड़ेगा इसका
यहाँ स्वयं महादेव का वास है।

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

शोध निबन्ध
साहित्यिक आलेख
सामाजिक आलेख
कविता
कविता - क्षणिका
कहानी
विडियो
ऑडियो