खोल दो खिड़कियाँ 
और रोशनदान सब 
रोशनी की हर किरण पर 
तुम्हारा भी अधिकार है।

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें