खोल दो खिड़कियाँ 
और रोशनदान सब 
रोशनी की हर किरण पर 
तुम्हारा भी अधिकार है।

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

पुस्तक समीक्षा
कहानी
बाल साहित्य कहानी
कविता
अनूदित कविता
शोध निबन्ध
लघुकथा
यात्रा-संस्मरण
विडियो
ऑडियो

विशेषांक में