वक्त की गहराइयों से

03-05-2012

वक्त की गहराइयों से

देवी नागरानी

वक़्त की गहराइयों से ढूँढ लाई हूँ समाँ
जीते जी मरने की कोशिश ने किया है बेज़ुबाँ।।


सूनी है ये राह लम्बी ना डगर आसान ये
ख़ुद से मिलने की यही पतली गली में है जहाँ।।


कुछ इशारे कर रही है, रात दिन कुदरत यहाँ
होश में बेहोश है क्यों है तुझे जाना कहाँ?


उम्र बढ़ती जा रही है, ज्यों घटे है ज़िंदगी
कितने मौसम आते जाते, कर रहे इसको बयाँ।।


मौत कि मौसम न देवी, जो पलट आती रहे
इक हवा का तेज़ झोंका, आए ऐसे ज्यों ख़िजाँ।।

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

पुस्तक समीक्षा
कहानी
साहित्यिक आलेख
ग़ज़ल
अनूदित कविता
अनूदित कहानी
पुस्तक चर्चा
बाल साहित्य कविता
विडियो
ऑडियो