सच को लगती आज गवाही

01-01-2021

सच को लगती आज गवाही

अविनाश ब्यौहार

हिन्दी ग़ज़ल
 
फेलुन
 
22 22 22 22
 
सच को लगती आज गवाही
कोर्ट हुआ तो राज गवाही
 
और मरे पशुओं की देता
मांसाहारी बाज़ गवाही
 
इस सूबे के आक़ाओं की
देता केवल ताज गवाही
 
बारिश यदि घनघोर हुई तो
देती होगी गाज गवाही
 
आँखों में मीठे सपने हों
तो आँखों को नाज़ गवाही

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें