चढ़ा था जो सूरज

15-02-2016

चढ़ा था जो सूरज

देवी नागरानी

चढ़ा था जो सूरज सदा वो ढला है
नई एक सुबह कोख में जो पला है।। 

न शिकवा शिकायत न कोई गिला है
मिला जो ऐ किस्मत तुम्हीं से मिला है।।

ये मन दोस्त दुश्मन मेरा बन गया है
वही ढूँढे बाहर जो अन्दर बसा है।।

बड़ी बे वफ़ा जिन्दगानी को कहते
"वफ़ा" नाम बस मौत को ही अता है।। 

न कर नाज ऐ मौत खुद पर भी इतना
सबक ज़िन्दगी से वफ़ा का मिला है।।

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

अनूदित कहानी
पुस्तक समीक्षा
कहानी
साहित्यिक आलेख
ग़ज़ल
अनूदित कविता
पुस्तक चर्चा
बाल साहित्य कविता
विडियो
ऑडियो