ख़बरों में बराबर जारी है युद्ध
     यहाँ गिरे बम,
          वहाँ चलीं बँदूकें,
               इतने हुए घायल,
                    कितने ही चल बसे,
                         अख़बारों के पन्नों में रहते हैं
                              रोते हुए बच्चे,
                                   सिर पटकतीं औरतें,
                               बहस करते राजनेता,
                         प्रदर्शन करते मानवतावादी,
                   सब को धौंसियाते बमधारी,
               दुनिया डरी सहमी कुछ देर,
      घबरायी -चिल्लायी कुछ देर,
बहुत बुरा हुआ.. ..
        कह मातम में रही कुछ देर
              फिर फ़िक्रों में रोटी-पानी की
                   सहज हो आई
                       बीच में पसरा था युद्ध जो
                                  हाशिए पर जा बसा,
                                       पढ़ लिया, हो गया ।
                     ख़बरों में अब भी
                     बराबर जारी है युद्ध ।।
 

0 Comments

Leave a Comment

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता
कहानी
कविता-मुक्तक
लघुकथा
स्मृति लेख
साहित्यिक आलेख
पुस्तक समीक्षा
कविता - हाइकु
कथा साहित्य
विडियो
ऑडियो