उनकी वापसी

01-04-2020

उनकी वापसी

अंजना वर्मा

लौट रहे हैं मज़दूर
इससे पहले वे नहीं हुए थे इतने मजबूर
अपनी मेहनत पर उन्हें भरोसा था 
दुनिया रचने वाले विश्वकर्माओं को
आज बेकारी की लपटों में झोंक दिया गया 
छिन गया उनका निवाला 
अपने टूटे बसेरों के टुकड़े सिर पर लादे
चले जा रहे हैं ख़ाली हाथ 
हज़ारों मील लंबा है सफ़र
कोई वाहन नहीं मिला
यदि है भी तो इन्हें मयस्सर नहीं
बस अपनी थकी-हारी टाँगों पर ही भऱोसा कर  
वे निकल पड़े हैं अपने गाँवों के लिए
इनका कारवाँ बढ़ा जा रहा है
भूखे - प्यासे रहकर भी चल रहे हैं
दोपहर की धूप में भी चलते हुए जल रहे हैं
कोई अपने बाल- बुतरू समेटे
घर वाली के साथ 
सबको देखता- सँभालता चल रहा है
तो कोई अकेला चलते हुए सोच रहा है
कि अगर दम टूट गया रास्ते में
तो कौन देखेगा?
और गाँव में कई जोड़ी आँखें
रास्ता देखती रह जायेंगी


अब कोरोना से क्या डरें ?
कितने-कितने डरों के बीच सयाने हुए हैं
चलना ही ज़िन्दगी है उनके लिए
आगे-आगे रोटी पीछे-पीछे वे
चलते रहे हैं इसी तरह 
खेलने-खाने  से दिनों से
वैसे दूसरों के लिए बचपन होता होगा 
खेलने- खाने का पर्याय
क्या होता है खेल ? 
और क्या होता है  खाना ? 
उन्होंने कभी नहीं जाना
सच तो यही है
कि सारी उम्र वे नापते रहे हैं ज़मीन
आज ज़िन्दगी के लिए 
ज़िन्दगी लगी है दाँव पर

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें