समय की पोटली से

15-07-2016

समय की पोटली से

डॉ. शैलजा सक्सेना

आज समय की पोटली से
एक घंटा चुराया...
और तुम्हारी यादों की छाँव तले,
तुम्हारी बातों की चादर पर लेटे-लेटे
मन ही मन सोचा कि
अगर ऐसा होता, तो कैसा होता
अगर वैसा होता तो कैसा होता!

 

सूरज ने देखा मुझे मगन मन
ख़ुश हो दे गया थोड़ी रोशनी और,
हवा ने सहला दिया मस्तक
फूलों ने मुठ्ठी भर ख़ुशबू
बिखरा दी अंतस में,
और मिट्टी ने उगने दिये सपनों के अंकुर।

 

एक घंटा जीने के लिये
इतना कुछ
दे सकता है...
जानती तो
रोज़ करती कोशिश,
इस चोरी की!!

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

साहित्यिक आलेख
पुस्तक चर्चा
कविता
नज़्म
कहानी
कविता - हाइकु
पुस्तक समीक्षा
कविता-मुक्तक
लघुकथा
स्मृति लेख
विडियो
ऑडियो