घड़ी और मैं

04-02-2019

अभी पैर बदल गये हैं
घड़ी की तेज़ चलती सुइयों में,
अभी थकावट का काला बादल
ढँक रहा है
ऊर्जा का सूरज
अभी फूल तक रूठे से दिखते हैं
और कामों की लम्बी सूची,
घोंट रही है
मेरे विचारों का गला!

पर लौटेगा बसंत,
जानती हूँ
तब यह बर्फीली हवा
ख़ुद ही बदल कर
पसर जायेगी
गुनगुनी धूप में
मेरे चारों ओर!

तब मैं घड़ी में नहीं,
बल्कि बदल जाऊँगी
समय के अनंत बहते जल में,
जिस पर बहेंगे भावों के
शतदल कमल!!

0 Comments

Leave a Comment

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता
कहानी
कविता-मुक्तक
लघुकथा
स्मृति लेख
साहित्यिक आलेख
पुस्तक समीक्षा
कविता - हाइकु
कथा साहित्य
विडियो
ऑडियो