होंठों पर मुस्कुराहट
सूरज सी खिली,
माथे के चिंता-बादल,
हो गये तिरोहित सब।

आस खिली कमल बन,
मानस के नील जल।

आत्मा का पँछी फड़फड़ाता पर,
अनहद का किल्लोल भर, अपने स्वर...
तुम..

कहाँ हो दूर???
मेरे ही भीतर
भरपूर!!!

0 Comments

Leave a Comment

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता - हाइकु
पुस्तक समीक्षा
कविता
कहानी
कविता-मुक्तक
लघुकथा
स्मृति लेख
साहित्यिक आलेख
कथा साहित्य
विडियो
ऑडियो