बंद दरवाज़े

01-04-2020

बंद दरवाज़े

डॉ. शैलजा सक्सेना

हवाएँ ले के आईं हैं,
हर- सू मौत की ही बू,
बहारों को मैं क्या देखूँ,
कि कुछ अच्छा नहीं लगता।

 

सारे प्लान ठिठके हैं,
समय भी थम गया सा है,
कराह सीने से उठती है,
कि कुछ अच्छा नहीं लगता।

 

कहीं एक, दो भी जाते तो,
धीरज धार लेते हम,
यहाँ तो गाँव खाली हैं,
कि कुछ अच्छा नहीं लगता।

 

पाँवों को समेटा है,
नज़र सब से चुराए हैं,
हमारे बीच है ख़तरा,
कि कुछ अच्छा नहीं लगता।

 

बहुत मन को धकेला है,
बहुत से पाठ पढ़ डाले,
मगर मन बैठता जाता,
 कि कुछ अच्छा नहीं लगता।

 

हवाएँ आँधियाँ बन कर,
चलेंगी देर तक कितनी?
मगर ये रात बाक़ी है,
कि कुछ अच्छा नहीं लगता॥
 

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

लघुकथा
साहित्यिक आलेख
पुस्तक चर्चा
कविता
नज़्म
कहानी
कविता - हाइकु
पुस्तक समीक्षा
कविता-मुक्तक
स्मृति लेख
विडियो
ऑडियो