स्त्री और प्रेम 

15-03-2021

स्त्री और प्रेम 

अंजना वर्मा

प्यार की नदी

जिसमें दोनों साथ ही समाये

दोनों भीगते रहे

पानी उछालते रहे

खेल करते रहे

पानी में डुबकियाँ लगाते रहे

 

उसके बाद

पुरुष निकलकर जाने लगा

बिल्कल सूखा

जैसे कभी भीगा ही न हो

स्त्री ने उसे निकलकर जाते हुए देखा

विश्वास नहीं हुआ

यह पीठ अचानक

अजनबी की पीठ में कैसे बदल गयी?

फिर भी उसने बुलाया

रोकना चाहा

पर पुरुष रुका नहीं

 

तब स्त्री ने उसके पीछे-पीछे

चलना चाहा

लेकिन नदी ने

उसके पैर बाँध लिये थे

नदी के जल से वह

बाहर से भीतर तक भीगी हुई थी

वह नदी में थी

नदी उसके भीतर थी

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें