सावन (आलोक कौशिक)

15-07-2020

सावन (आलोक कौशिक)

आलोक कौशिक

पिपासा तृप्त करने प्यासी धरा की 
बादल प्रेम सुधा बरसाने आया है 
अब तुम भी आ जाओ मेरे जीवन 
प्रेमाग्नि जलाने सावन आया है 


देखकर भू की मनोहर हरियाली 
नभ के हिय में प्रेम उमड़ आया है 
रिमझिम फुहारें पड़ीं तन पर जब 
मन अनुरागी तब अति हर्षाया है 


प्रेम और मिलन का महीना है सावन 
प्रकृति व परमात्मा ने समझाया है 
बनकर मल्हार शीतल कर दो 
कजरी की धुनों ने बड़ा तड़पाया है 

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता
लघुकथा
कहानी
गीत-नवगीत
हास्य-व्यंग्य कविता
विडियो
ऑडियो