प्रकृति

01-04-2020

प्रकृति

आलोक कौशिक

विध्वंसक धुँध से आच्छादित 
दिख रही सृष्टि सर्वत्र 
किंतु होता नहीं मानव सचेत 
कभी प्रहार से पूर्वत्र 


सदियों तक रहकर मौन 
प्रकृति सहती अत्याचार 
करके क्षमा अपकर्मों को 
मानुष से करती प्यार 


आता जब भी पराकाष्ठा पर 
मनुज का अभिमान 
दंडित करती प्रकृति तब 
अपराध होता दंडमान 


पशु व पादप को धरा पर 
देना ही होगा उनका स्थान 
करके भक्षण जीवों का 
नहीं होता मनुष्य महान 

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें