कुछ ऐसा करो इस नूतन वर्ष

01-01-2020

कुछ ऐसा करो इस नूतन वर्ष

आलोक कौशिक

शिक्षा से रहे ना कोई वंचित 
संग सभी के व्यवहार उचित 
रहे ना किसी से कोई कर्ष 
कुछ ऐसा करो इस नूतन वर्ष 


भले भरत को दिलवा दो सिंहासन 
किंतु राम भी वन ना जायें सीता संग 
सबको समान समझो सहर्ष 
कुछ ऐसा करो इस नूतन वर्ष 


मिलें पुत्रियों को उनके अधिकार 
पर ना हों पुत्रवधुओं पर अत्याचार 
ईर्ष्या रहित हो हर संघर्ष 
कुछ ऐसा करो इस नूतन वर्ष 


मनुष्य महान होता कर्मों से 
देश श्रेष्ठ होता हर धर्मों से 
हो सदैव भारत का उत्कर्ष 
कुछ ऐसा करो इस नूतन वर्ष 

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता
लघुकथा
कहानी
गीत-नवगीत
हास्य-व्यंग्य कविता
विडियो
ऑडियो