किसान की व्यथा

01-08-2020

किसान की व्यथा

आलोक कौशिक

मैं किसान हूँ 
अब आपने अनुमान लगा ही लिया होगा 
कि मेरे पिता एवं पितामह भी 
अवश्य ही किसान रहे होंगे 


आपका अनुमान सही है श्रीमान 
मेरे पूर्वज भी थे किसान 
किसान का पुत्र किसान हो या ना हो 
किसान का पिता अवश्य किसान होता है 


किसान होना तो अभिशाप समझा जाता है 
अगर विश्वास ना हो तो आप कभी किसी को 
किसान बनने का आशीर्वाद देकर देख लीजिए 
आपका भ्रम अवश्य दूर हो जाएगा 


किसान पर लिखना और बोलना आसान है 
कठिन तो है किसान बनना 
किसान बनकर जीवन व्यतीत करना आसान नहीं होता 
धैर्य, साहस और समर्पण चाहिए 


किसान को संतान सी प्रिय होती है 
लहलहाती हुई फ़सल 
और परम प्रिय को खोने की पीड़ा के समान ही होता है 
फ़सलों के नष्ट होने का कष्ट 


किसान की व्यथा को 
इस भूतल पर 
केवल किसान ही समझ सकता है 
और कोई नहीं 

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

लघुकथा
कविता
कहानी
गीत-नवगीत
हास्य-व्यंग्य कविता
विडियो
ऑडियो

विशेषांक में