भारत में

01-03-2020

भारत में

आलोक कौशिक

भारत में पूर्ण सत्य 
कोई नहीं लिखता 
अगर कभी किसी ने लिख दिया 
तो कहीं भी उसका 
प्रकाशन नहीं दिखता 


यदि पूर्ण सत्य को प्रकाशित करने की 
हो गई किसी की हिम्मत 
तो लोगों से बर्दाश्त नहीं होता 
और फिर चुकानी पड़ती है लेखक को 
सच लिखने की क़ीमत 


भारतीयों को मिथ्या प्रशंसा 
अत्यंत है भाती 
आख़िर करें क्या लेखक भी 
यहाँ पुत्र कुपुत्र होते सर्वथा 
माता नहीं होती कुमाता 

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें