ये और वो

15-12-2019

वो सोये,
एक दूसरे के खाली स्थानों में समा कर..
वो सोये,
एक दूसरे के दु:ख में समा कर..
वो सोये,
एक दूसरे के सपनों में समा कर!!


ये बिखरी,
उसने बाँध लिया..
वो बरसा,
इसने अपना सीना आगे कर दिया..
ये बोली,
तो उसने कान अँजुरि कर दिये…
और पी गया डैश, कॉमा, विरामचिन्ह तक!
वो बोला,
तो लिख लिया इसने रोमकूपों पर…॥

 

वो फिसला,
तो यह चट्टान बन गई,
यह बहकी,
वो समंदर बन गया…
सब समेट लाया…॥

अब कौन बताये,
किसने क्या खोया,
किसने क्या पाया!!

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

साहित्यिक आलेख
पुस्तक चर्चा
कविता
नज़्म
कहानी
कविता - हाइकु
पुस्तक समीक्षा
कविता-मुक्तक
लघुकथा
स्मृति लेख
विडियो
ऑडियो