इंतज़ार अच्छे पाठक का

15-12-2019

इंतज़ार अच्छे पाठक का

डॉ. शैलजा सक्सेना

आसान नहीं होता उस कविता की तरह जीना
जिसे लिखा गया हो
बहुत आँच और पानी देकर 
लेकिन न मिले उसे अच्छा पाठक या श्रोता!
कोई देख न सके
उसकी चुहल को,
न बँधी-तनी मुठ्ठियों को,
कोई आया ही न हो उसकी आँच की तपिश से
अपने ठंडे मन को गरमाने,
ख़ून में गति लाने, 
या उसके पानी में पाँव भिगो, 
उसकी छाँव में कुछ देर सुस्ताने.. ..
ऐसी कविता सोचने लगती है
क्या फ़ायदा...?
क्या फ़ायदा मेरे होने का?
और पड़ जाती है दुविधा में...!!


अपने को समेट, 
बिस्तर पर देह फैलाती वो औरत भी सोचती है
क्या फायदा..?
क्या फ़ायदा मेरे होने का?
उम्र भर अपने को पका,
सब को आग-पानी देने की कोशिश करने का
जब उसके उजास को किसी ने पढ़ा ही नहीं?
कोई भीगा ही नहीं उसके झरनों के पानी में..
किसी की अँगुलियों ने थामे ही नहीं उसके मन के पन्ने…
रह गयी वो भी उस कविता सी..
बिन पढ़ी,
एक अच्छे पाठक के इंतज़ार में!
 

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता
नज़्म
साहित्यिक आलेख
कहानी
कविता - हाइकु
पुस्तक समीक्षा
कविता-मुक्तक
लघुकथा
स्मृति लेख
विडियो
ऑडियो