ये दौर याद आयेगा

15-11-2020

ये दौर याद आयेगा

संदीप कुमार तिवारी 

कहीं  पे  दूर  का मंज़र 
सफ़र मज़दूर का मंज़र 
अँधेरी  रात  में  चलती 
सड़क पे नूर का मंज़र 
सब कुछ तो ठीक हो जाएगा,
हाँ मगर ये दौर याद आयेगा!
 
बदलती नदी का मंज़र 
बदलते सभी का मंज़र 
नर्क के खान  से उभरी 
प्राकृतिक छवि का मंज़र
यह सब इंसां कहाँ भूल पायेगा 
तुम देखना, ये दौर याद आयेगा!
 
नया आसमान का मंज़र 
खेत-खलिहान का मंज़र 
दर्द के आह  से  निकली 
किसी मुस्कान का मंज़र 
वक़्त बीतता है बीत जाएगा।
हाँ मगर ये दौर याद आयेगा!

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें