ठहराव ज़िन्दगी में दुबारा नहीं मिला

03-05-2012

ठहराव ज़िन्दगी में दुबारा नहीं मिला

देवी नागरानी

ठहराव ज़िन्दगी में दुबारा नहीं मिला
जिसकी तलाश थी वो किनारा नहीं मिला

 

वर्ना उतारते न समंदर में कश्तियाँ
तूफ़ान आए जब भी इशारा नहीं मिला

 

मेरी लड़खड़हाटों ने संभाला है आज तक
अच्छा हुआ किसीका सहारा नहीं मिला

 

बदनामियाँ घरों मे दबे पाँव आ गई
शोहरत को घर कभी, हमारा नहीं मिला

 

ख़ुश्बू, हवा और धूप की परछाइयाँ मिलीं
रौशन करे जाए शाम, सितारा नहीं मिला

 

ख़ामोशियाँ भी दर्द से देवी है चीखती
हम सा कोई नसीब का मारा नहीं मिला

0 Comments

Leave a Comment

लेखक की अन्य कृतियाँ

कहानी
साहित्यिक आलेख
ग़ज़ल
अनूदित कविता
अनूदित कहानी
पुस्तक चर्चा
पुस्तक समीक्षा
बाल साहित्य कविता
विडियो
ऑडियो