मैं तो हूँ केवल अक्षर

01-03-2020

मैं तो हूँ केवल अक्षर

आलोक कौशिक

मैं तो हूँ केवल अक्षर 
तुम चाहो शब्दकोश बना दो 


लगता वीराना मुझको 
अब तो ये सारा शहर 
याद तू आये मुझको 
हर दिन आठों पहर 


जब चाहे छू ले साहिल 
वो लहर सरफ़रोश बना दो 


अगर दे साथ तू मेरा 
गाऊँ मैं गीत झूम के 
बुझेगी प्यास तेरी भी 
प्यासे लबों को चूम के 


आयते पढ़ूँ मैं इश्क़ की 
इस क़दर मदहोश बना दो 


तेरा प्यार मेरे लिए 
है ठण्डी छाँव की तरह 
पागल शहर में मुझको 
लगे तू गाँव की तरह 


ख़ामोशी न समझे दुनिया 
मुझे समुंदर का ख़रोश बना दो 

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता
लघुकथा
कहानी
गीत-नवगीत
हास्य-व्यंग्य कविता
विडियो
ऑडियो