झूमका सँभाल गोरी

15-11-2020

झूमका सँभाल गोरी

संदीप कुमार तिवारी 

पवित्र गंगा सी  पावन
तुम्हें मिला है ये यौवन 
मधु रस  का ये जीवन
और उसपे  चंचल मन
रसभरी गगरिया को ऐसे ना उछाल गोरी!
झूमका सँभाल गोरी, झूमका सँभाल गोरी।
 
कुछ जाने कुछ पहचाने हैं। 
पर सभी यहाँ  अनजाने हैं। 
किसकी  नियत  कैसी  है,
नादान! ये तू नहीं  जाने है।
 
उल्टी गंगा अक़्सर बहती 
यहाँ होता झूठा ही संगम 
तू काहे चले डगर पनघट 
अब  नहीं  रहें वो आदम
जाने कब आ जाये कहाँ पल में भूचाल गोरी! 
झूमका सँभाल गोरी, झूमका सँभाल गोरी।
 
ये  शैतानों  की बस्ती है। 
तुम रूप ये दिखाओ ना।
नहीं कोई अब मजनूँ रे,
तुम मीरा बन जाओ ना।
 
झूठा है शृंगार ये झूठे हैं आभूषण। 
भोग मात्र तेरा  सुंदरता का ये तन।
तू ना जाने यहाँ पे कैसे किस क़दर,
अंधों के पैरों से मसला जाए कुंदन।
ख़ुद पे इतराना छोड़ ख़ुद को सँभाल गोरी! 
झूमका सँभाल गोरी, झूमका सँभाल गोरी।

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें