ज़माना मुझको आँखों पर

23-02-2019

ज़माना मुझको आँखों पर

राघवेन्द्र पाण्डेय 'राघव'

ज़माना मुझको आँखों पर बिठाता ‘सर’ समझता है
ये तू है जो न जाने क्यूँ मुझे कमतर समझता है

उसे दिल जान से मैं चाहती हूँ पूजती भी हूँ
जिसे तू कुछ नहीं बस रंग चुटकी भर समझता है

मैं तुझको देवता मानूँ यही कारण है तू मुझको
हमेशा धूल पैरों की या फिर चाकर समझता है

बड़े अरमान से मैंने तुम्हें अपना बनाया था
ये क्या मालूम था के तू मुझे बिस्तर समझता है

उसे जाने दो अपनी राह करने दो वो जो चाहे
वो आदम जात है जो खाके बस ठोकर समझता है

ये मेरा चित्त है जिसमें कि दोनों साथ रहते हैं
अभी अल्लाह-ओ-अकबर तो अभी हर-हर समझता है

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

किशोर साहित्य कविता
कविता-मुक्तक
नवगीत
ग़ज़ल
कविता
अनूदित कविता
नज़्म
बाल साहित्य कविता
हास्य-व्यंग्य कविता
विडियो
ऑडियो