शिकवा गिला मिटाने का त्योहार आ गया

01-03-2021

शिकवा गिला मिटाने का त्योहार आ गया

निज़ाम-फतेहपुरी

221 2121 1221 212
 
अरकान- मफ़ऊल फ़ाइलात मुफ़ाईल फ़ाइलुन
 
शिकवा गिला मिटाने का त्योहार आ गया
दुश्मन भी होलि खेलने  को यार आ गया
 
परदेसी  सारे  आ  गए  परदेस  से  यहाँ
अपना भी मुझको रंगने मेरे द्वार आ गया
 
रंग्गे गुलाल  उड़  रहा  था  चारों  ओर  से
नफ़रत मिटा के देखा तो बस प्यार आ गया
 
ठंडाइ भांग की मिलि हमनें जो पी लिया
बैठा था घर में चैन  से  बाज़ार आ गया
 
मजनू पड़े हैं  पीछे  मुझे  रंगने  के  लिए
धोखा हुआ पहन के जो सलवार आ गया
 
सब लोग मिल रहे गले  इक दूजे से यहाँ
लगता है मुरली वाले के दरबार आ गया
 
खेलो निज़ाम रंग  भुला कर के सारे ग़म
सबको गले लगाने  ये  दिलदार आ गया
 
– निज़ाम-फतेहपुरी

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

ग़ज़ल
गीतिका
कविता-मुक्तक
विडियो
ऑडियो

विशेषांक में