कौन हो तुम चोर!

20-02-2019

रात की निस्तब्धता में
कौन हो तुम चोर !

साँझ को जब खेत से आया
नमन के हेतु
एक अञ्जुल जल मिला बस
आचमन के हेतु

वही पीकर नींद का
आह्वान करता सो रहा हूँ;
क्या चुराना चाहते हो
‘भूख’ या फिर ‘भोर’!

झोपड़ी को लूटना ही
शान होती है महल की,
यह तुम्हारा धिक प्रदर्शन
है उसी की एक झलकी

अब तुम्हारी ही समझ पर
फैसला मैं छोड़ देता,
बोल इसको नाम क्या दूँ,
‘अनघ’ या ‘अनघोर’

0 Comments

Leave a Comment

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता-मुक्तक
नवगीत
ग़ज़ल
कविता
अनूदित कविता
नज़्म
बाल साहित्य कविता
हास्य-व्यंग्य कविता
विडियो
ऑडियो