जग में नहीं है आदर

23-02-2019

जग में नहीं है आदर

राघवेन्द्र पाण्डेय 'राघव'

जग में नहीं है आदर घास-फूस की तरह
बस घूमते रहते हैं चापलूस की तरह

दिन में अमेरिका की तरह बम गिरा गये
रातों में चाँद पर चढ़ेंगे रूस की तरह

कल तक थे ख़फ़ा जिनपे नज़र तिरछी किए साब
उन पर ही आज बरस गये जूस की तरह

सबको खिला-खिला के मिठाई हुए तबाह
ख़ुद के लिए हैं बच गये लमचूस की तरह

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

किशोर साहित्य कविता
कविता-मुक्तक
नवगीत
ग़ज़ल
कविता
अनूदित कविता
नज़्म
बाल साहित्य कविता
हास्य-व्यंग्य कविता
विडियो
ऑडियो