हमने उनके वास्ते सब कुछ गँवाया

21-02-2019

हमने उनके वास्ते सब कुछ गँवाया

राघवेन्द्र पाण्डेय 'राघव'

हमने उनके वास्ते 
सब कुछ गँवाया 
क्या इसी दिन के लिए

वे हमें अब 
मारते-दुत्कारते हैं 
हम सदा जीते रहे 
जिनके लिए

तंगहाली में लिया था 
कर्ज़ जिसका 
ब्याज भी वे आज 
गिन-गिन के लिए

ज्ञान ऊधौ 
पास ही रखिए 
न कोई प्रेम का है मोल 
गोपिन के लिए

अन्न के दाने उठाते 
हाथ बूढ़े सोच लो
अपने लिए या 
नात-नातिन के लिए 

0 Comments

Leave a Comment

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता-मुक्तक
नवगीत
ग़ज़ल
कविता
अनूदित कविता
नज़्म
बाल साहित्य कविता
हास्य-व्यंग्य कविता
विडियो
ऑडियो