हर तरफ़ है छिड़ी समय को..

20-02-2019

हर तरफ़ है छिड़ी समय को..

राघवेन्द्र पाण्डेय 'राघव'

हर तरफ़ है छिड़ी 
समय को भुनाने की ज़िरह
कल का सौदा टके का, 
आज बेशक़ीमती है 

कल था नवरात्र तो महँगी 
थी देवियों की शकल
आज दीवाली में 
लक्ष्मी-गणेश क़ीमती हैं 

कल की मंदी में तो 
सूरज भी बिका धेले में 
बचे हैं जुगनूँ जो भी 
आज शेष, क़ीमती हैं 

जब तलक 
मालिक-ए-गद्दी(गड्डी) 
थे ताव से सोये 
सर पे जब आ गया 
चुनाव, देश क़ीमती है 

वो अलग दौर था जब राम 
की जय बोलते थे लोग 
आज की लीला में 
लंका-नरेश क़ीमती है 

0 Comments

Leave a Comment

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता-मुक्तक
नवगीत
ग़ज़ल
कविता
अनूदित कविता
नज़्म
बाल साहित्य कविता
हास्य-व्यंग्य कविता
विडियो
ऑडियो