हमें भारतवर्ष का उत्कर्ष चाहिए

01-12-2019

हमें भारतवर्ष का उत्कर्ष चाहिए

राघवेन्द्र पाण्डेय 'राघव'

स्वच्छ तन हो-स्वच्छ मन हो 
स्वच्छ धरा और गगन हो 
स्वच्छता चहुँ ओर ही इस वर्ष चाहिए 

 

रोग न हो और न दुःख 
स्वच्छता में निहित है सुख 
देश के जन-जन में यह विमर्श चाहिए 

 

स्वच्छता पहचान बने 
आन-बान-शान बने 
स्वच्छता की सोच अब सहर्ष चाहिए  

0 Comments

Leave a Comment

लेखक की अन्य कृतियाँ

किशोर साहित्य कविता
कविता-मुक्तक
नवगीत
ग़ज़ल
कविता
अनूदित कविता
नज़्म
बाल साहित्य कविता
हास्य-व्यंग्य कविता
विडियो
ऑडियो