शब्द जो ख़रीदे नहीं जाते 

15-08-2020

शब्द जो ख़रीदे नहीं जाते 

वेदित कुमार धीरज

शब्द जो काग़ज़ पर 
उकेरे जाते हैं 
ख़रीदे नहीं गए होते 
कोई अपनी तमाम रातों को 
जागकर इन्हें गढ़ता है
वेदना की रुखान से 
परिस्थितियों के पत्थर पर 
और वो जो गढ़ते हैं शब्दमाला 
कम नहीं होते 
एलोरा के महान मूर्तिकारों से 
जो मनोभावों को आकर देते हैं 
बिलकुल सहज स्पष्ट और उत्कृष्ट 
उनके भी माप के अनुपात भी कम नहीं होते 
अजंता के चित्रकारों से 
शब्दों के ककहरों का आबंध
जो लिखते हैं 
तुम्हारा दर्द, एहसास, वेदना और प्रेम 
वो जो महसूस करते है अन्नंत वेदना
जो गीत तुमने गाये हैं जीवन विरह में 
जिसने तुम्हे बँधाये हैं ढाढ़स 
सुझाये हैं सही रास्ते, तौर-ए-ज़िंदगी 
वो गीत कम नहीं है किसी मंत्र से 
और वो जो गढ़ते हैं शब्दमाला 
कम नहीं होते 
एलोरा के महान मूर्तिकारों से

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें