परिंदा कहेगा

15-08-2020

परिंदा कहेगा

ज़हीर अली सिद्दीक़ी 

बख़्श दे हमें
जंग लड़के हैं हारे
बख़्शना नहीं गर
बिना जंग हारे।।
 
मुसीबत से हारें
हमें न गवारा
भले ग़म का सागर
मगर है किनारा ।।
 
नेकी का रस्ता
दिल में है बसता
बदी से है दूरी
है बसता फ़रिश्ता।।
 
शिकवा किसी से
दिल है दुखाता
मुहब्बत सभी से
दिल है खिलाता।।
 
फ़तह की तमन्ना
हर शख़्स रखता
मगर जीतता वह
जो राहें बनाता।।
 
दुबककर बैठे जो
जीते जी मरेगा
बुज़दिल है इंसान
परिंदा कहेगा॥

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें