पलाश के पुष्प

15-02-2021

पलाश के पुष्प

वेदित कुमार धीरज

होता नहीं पूर्ण जब श्रांत
जब क्लेश नहीं मिट पाते हैं
जो कष्टों से हों घिरे हुए
वो मनुज स्वतः डर जाते हैं
जो कष्टों से घिरी दोपहरी को
सहन नहीं कर पाते है
खोकर निज का स्वाभिमान
वो शरणागत हो जाते हैं
तपती कठोर दुपहरी में
विंध्यांचल का ज्येष्ठ मास
जब वन और उपवन सुखें हो
जल की हो सबमे अमिट प्यास
जब तप्त शिलायें लाल हुई
धरती से आग निकलती हो
 
ये कौन तपस्वी है वन में?
केसरिया रंग प्रभात लिए
केसरिया पुष्प शिखर उसके
कर रहे प्रकृति का श्रृंगार
प्रकृति के ये धर्म ध्वजा
तपसी कोई ज्यो साधक हो
इनकी छाया में बिछी हुई
केसरिया पुष्पों की चादर हो
 
गिरकर भी नहीं क्लेश कोई
ये पुष्प बड़े ही त्यागी है
प्रियतम से विच्छेदित है
पर दर्शन के अभिलाषी है
 
सम्बल से विच्छेद
अधर से छूटे हुए
बिलगाए से प्राण
विमोह हो रूठे हुए
तुम पतझड़
या फिर बसंत से
बेपरवाह
मुस्करा कर मृत्यु को जीते हुए
तुम पलाश के पुष्प
रंग से केसरिया
नहीं किसी से आस
मन से केसरिया

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें